ऐसे हो रहे हैं जियो सिम के बारकोड हैक

नई दिल्ली. जियो सिम पाने के लिए ग्राहकों की डिजिटल स्टोर पर लाइने लगी पड़ी है। 3 महीने फ्री इंटरनेट और कॉलिंग का फायदा उठाने के लिए लोग टूटकर सिम लेने पहुंच रहे हैं। जियो सिम लेने के लिए आधार कार्ड और बारकोड जरूरी है। हैरानी की बात यह है कि बारकोड जेनरेट करने के चंद मिनटों बाद ही हैक हो रहे हैं।
दिल्ली में बहुत से लोगों के साथ ऐसा हो चुका है। आधार कार्ड और बारकोड लेकर सिम की चाहत में डिजिटल स्टोर पहुंचने पर लोगों को पता चला रहा है कि उनका बारकोड यूज हो चुका है। ऐसे में लोग निराश होकर लौट रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि रिटलर्स को बारकोड हैक करने के तरीके ‘अंदर वाले’ ही बता रहे हैं।
  • Next
 Jio Barcode Hack 
  • Next
लोकल रीटेलर ले रहे हैं पैसे
रिलायंस के डिजिटल स्टोर के अलावा अब गली-मोहल्लों में जियो सिम लोगों को दिए जा रहे हैं। बहुत कम रीटेलर फ्री में, लेकिन ज्यादातर पैसे लेकर सिम उपलब्ध करा रहे हैं। 200 से 1000 रुपए में सिम बिक रहा है। कुछ रीटेलर ऐसे हैं जो सिम फ्री में दे रहे हैं लेकिन उसे ऐक्टिवेट करने के लिए पैसे मांग रहे हैं। यही नहीं, जिनके पास कूपन कोड नहीं हैं, उन्हें किसी और के कूपन कोड के नाम पर सिम दिए जा रहे हैं।
जगह के हिसाब से अलग हैं रेट
एनबीटी के अनुसार, जगह के हिसाब से रेट अलग हैं। देवली और संगम विहार जैसे इलाकों में 100 से 200 रुपए में कूपन कोड दिए जा रहे हैं। द्वारका जैसे एरिया में कूपन कोड देने के लिए 200 से 300 रुपए वसूले जा रहे हैं। फ्री इंटरनेट और कॉलिंग के चक्कर में लोग आसानी से इतने पैसे दे रहे हैं।
अगर हैक हो जाएगा तो क्या होगा
जानकारों का कहना है कि जियो के ऐप डिलीट करके फिर से डाउनलोड करने पर नया कोड जेनरेट हो जाता है, लेकिन कई लोगों ने बताया कि ऐसा हो नहीं रहा।

 

Leave a Reply